Tuesday, December 15, 2020

किसानों को देशद्रोही कहने पर भड़के संजय राउत, कहा- सरकार के ख़िलाफ़ उठने वाली हर आवाज़ को देशद्रोही बताती है BJP

मोदी सरकार के नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों को बदनाम करने की तमाम तरह कोशिशें की जा रही हैं। सत्तारूढ़ पार्टी और मीडिया के एक तबके द्वारा कभी उन्हें देशद्रोही-


आतंकवादी तो कभी चीन-पाकिस्तान का एजेंट बताया जा रहा है। किसानों पर इस तरह के आरोप लगाए जाने से लोगों ने भारी नाराज़गी है। विपक्ष ने भी किसानों को देशद्रोही कहे जाने पर आपत्ति जताई है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर आरोप लगाया कि केंद्र सरकार की नज़र में आंदोलनकारी किसान ‘खालिस्तानी’ और क्रोनी कैपिटलिस्ट उसके ‘सबसे अच्छे दोस्त’ हैं।



 
राहुल गांधी के इस बयान का शिवसेना नेता संजय राउत ने समर्थन करते हुए मोदी सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि ये राहुल गांधी की भावना नहीं है, ये पूरे देश की भावना है। उन्होंने कहा कि जो भी मोदी सरकार के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाएगा उसे बीजेपी नेता देशद्रोही, पाकिस्तान और चीन के साथ साठगांठ है 


बोलेंगे। शिवसेना नेता ने कहा कि जो किसान विरोध आंदोलन कर रहे हैं, उनके परिवार के आधे लोग फौज में हैं। इसके बावजूद इन किसानों को देशद्रोही कहा जा रहा है। कल हम कुछ बोलेंगे तो हमें भी देशद्रोही कहा जाएगा। मोदी सरकार के लिए पूंजीपति ही उसके ‘सबसे अच्छे दोस्त’ हैं।

 
इससे पहले कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने किसानों को देशद्रोही कहे जाने को लेकर मोदी सरकार को आड़े हाथों लिया था। उन्होंने ट्वीट कर लिखा था कि मोदी सरकार के लिए विरोध करने वाले स्टूडेंट्स राष्ट्र-विरोधी हो जाते हैं।


 देश के जिम्मेदार और चिंतित नागरिक अबर्न नक्सल हो जाते हैं। प्रवासी मजदूरों को कोरोना कैरियर कहा जाता है। बलात्कार के पीड़ितों का कोई अस्तित्त्व नहीं है। विरोध प्रदर्शन करने वाले किसान खालिस्तानी हैं… और क्रोनी कैपिटलिस्ट उनके सबसे अच्छे दोस्त हैं।

No comments:

Post a Comment